Space for advertisement

पाकिस्तान का दावा: इस मुस्लिम साइंटिस्ट ने 1 हजार साल पहले ढूंढा था कोरोना का इलाज



कोरोना वायरस से संक्रमण से बचाव के लिए क्वारंटाइन किया जाना सबसे अच्छा तरीका माना गया है। जबसे कोरोना वायरस फैला है, यह शब्द बार-बार सुनने को मिलता है। क्वारंटाइन का मतलब है कि जिन लोगों के वायरस से संक्रमित होने की आशंका होती है, उन्हें दूसरे लोगों से अलग-थलग आइसोलेशन में रखा जाता है। इससे वायरस दूसरे लोगों में नहीं फैल पाता है। 

अब पाकिस्तान ने दावा किया है कि क्वारंटाइन का कॉन्सेप्ट एक मुस्लिम वैज्ञानिक का है। कहा जा रहा है कि संक्रामक रोगों से बचाव के लिए सबसे पहले इब्न सिना नाम के मशहूर मुस्लिम साइंटिस्ट ने क्वारंटाइन का तरीका इस्तेमाल में लाया था। इब्न सिना को वेस्टर्न कंट्रीज में एविशियेना के नाम से भी जाना जाता है। उनका समय 980 ई. से 1037 तक बतलाया जाता है। वे साइंटिस्ट होने के साथ ही लेखक, चिकित्सक, बुद्धिजीवी और एस्ट्रोनॉमर भी थे।

सिना को मध्य युग के मेडिसिन साइंस का फाउंडर माना जाता है। कहा जाता है कि उन्होंने कुल 450 किताबें लिखीं, जिनमें 240 किताबें अभी भी मौजूद हैं। उन्होंने 150 किताबें फिलॉसफी पर लिखी हैं और 40 किताबें मेडिसिन पर। उनकी किताब ‘द बुक ऑफ हीलिंग’ फिलॉसफी और साइंस के क्षेत्र में बहुत महत्वपूर्ण मानी गई है। उनकी ‘द कैनन ऑफ मेडिसिन’ मध्य काल में कई विश्वविद्यालयों में पढ़ाई जाती रही। सिना इस्लामिक धर्म शास्त्र के भी बड़े विद्वान थे। बहरहाल, उन्हें क्वारंटाइन की शुरुआत करने वाला साइंटिस्ट मानना कहां तक उचित होगा, इसके बारे में कुछ कह पाना आसान नहीं है।

जहां तक पाकिस्तान का सवाल है, वहां कोरोना वाायरस से संक्रमित लोगों की संख्या फिलहाल 8,348 हो गई है। अधिकारियों के मुताबिक, कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित पंजाब प्रांत है। वहां अब तक 3,822, सिंध में 2,537, खैबर-पख्तूनख्वा में 1,137, बलूचिस्तान में 376, गिलगित-बाल्टिस्तान में 257, इस्लामाबाद में 171 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में 48 मामले सामने आए हैं। पाकिस्तान में कोरोना के संक्रमण से मृतकों की संख्या 168 हो गई है। देखें इससे जुड़ी तस्वीरें।

मिडल एज के मुस्लिम साइंटिस्ट और फिलॉसफर इब्न सिना अध्ययन और प्रयोग में लगे हुए। मेडिसिन पर लिखी गई इनकी किताबें दुनिया के कई विश्वविद्यालयों में पढ़ाई जाती थीं। कहा जाता है कि संक्रामक रोगों से बचाव के लिए क्वारंटाइन करने की अवधारणा सबसे पहले इब्न सिना ने ही सामने रखी थी।पाकिस्तान में एक हेल्थ वर्कर एक शख्स का कोराना वायरस टेस्ट कर रहा है।

पाकिस्तान में ट्रेनों में क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए। वहां काम करने वाले हेल्थ वर्कर विक्ट्री साइन बना कर लोगों को हौसला दे रहे हैं कि वे कोरोना वायरस पर काबू पा लेंगे। पाकिस्तान में ट्रेनों में क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए। वहां काम करने वाले हेल्थ वर्कर विक्ट्री साइन बना कर लोगों को हौसला दे रहे हैं कि वे कोरोना वायरस पर काबू पा लेंगे।
पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्रों में कोरोना का असर ज्यादा है। वहां खुले पहाड़ी इलाकों में कैम्पों में क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्रों में कोरोना का असर ज्यादा है। वहां खुले पहाड़ी इलाकों में कैम्पों में क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। कोरोना वायरस फैलने पर पाकिस्तान में भी लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। लॉकडाउन में इस्लामाबाद के इस बाजार में पूरी तरह सन्नाटा छाया है।

कोरोना वायरस फैलने पर पाकिस्तान में भी लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। लॉकडाउन में इस्लामाबाद के इस बाजार में पूरी तरह सन्नाटा छाया है। कोरोना वायरस के मामले सामने आने के बाद दूसरे देशों से आने-जाने पर पाकिस्तान में पूरी तरह रोक लगा दी गई। हिमाचलसे.कॉम कोरोना वायरस के मामले सामने आने के बाद दूसरे देशों से आने-जाने पर पाकिस्तान में पूरी तरह रोक लगा दी गई। पाकिस्तान में ट्रेन के इस डिब्बे को क्वारंटाइन सेंटर और अस्पताल में बदल दिया गया है। पाकिस्तान में ट्रेन के इस डिब्बे को क्वारंटाइन सेंटर और अस्पताल में बदल दिया गया है।

पाकिस्तान में कोरोना से बचाव के लिए लोगों को इस तरह के पोस्टर लगाकर हाथ धोने के बारे में बताया जा रहा है। पाकिस्तान में कोरोना वायरस की जांच के लिए सैम्पल लिए एक मेडिकल स्टाफ। पाकिस्तान में इसकी जांच की सुविधा कम ही अस्पतालों में है। पाकिस्तान में ट्रेन के कम्पार्टमेंट को क्वारंटाइन के लिए इस्तेमाल में लाया गया। ट्रेन के एक कम्पार्टमेंट में डॉक्टर और नर्स। यहां मरीजों के इलाज की सुविधा मुहैया कराई गई है।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!