Space for advertisement

आखिर मरने के 1 मिनट बाद क्या होता है, जानेंगे तो उड़ जाएंगे होश


मृत्यु कोई शब्द नही बल्कि, हिन्दू धर्म के महाभारत ग्रन्थ के अनुसार, मृत्यु एक परम पवित्र मंगलकारी देवी है। सामान्य भाषा मे किसी भी जीवात्मा अर्थात प्राणी के जीवन के अन्त को मृत्यु कहते हैं। मृत्यु सामान्यतः वृद्धावस्था, लालच, मोह,रोग,, कुपोषण के परिणामस्वरूप होती है। मुख्यतया मृत्यु के 101 स्वरूप होते है, लेकिन मुख्य 8 प्रकार की होती है। जिसमे बुढ़ापा, रोग, दुर्घटना, अकस्मती आघात, शोक,चिंता, ओर लालच मृत्यु के मुख्य रूप है।
ये तो सभी को मालुम होगा कि जिसने इस संसार को बनाया वो ही हमारा रचनाकार है और जो जन्म लेता है उसे एक ना एक दिन मृत्यु को प्राप्त होना ही पडता है ये एक साशवत नियम है। वैसे दुनिया में हर धर्म का अपना-अपना रिवाज होता है। कहते है कि मरने के बाद इंसान मिट्टी में मिल जाता है।

हम सभी यह जानते हैं, लेकिन हर कोई यह जानने में दिलचस्पी रखता है कि मृत्यु और उसके बाद क्या होता है।
वर्षों से मनुष्य जानना चाहता था कि मृत्यु के बाद की दुनिया क्या है। ऐसा शास्त्रों में भी लिखा है। लेकिन इसे परिभाषित करके सूक्ष्म अर्थों को समझना मनुष्य की समझ नहीं है।

शास्त्रों में कहा गया है कि आत्म अमर और अमर है। यह नष्ट नहीं होता है।
स्वयं भगवान कृष्ण ने भी गीता में आत्मा की अमरता की बात कही है। लेकिन मृत्यु क्या है मृत्यु से कुछ सेकंड पहले क्या होता है। ज वह एक वीडियो में इस विषय पर बहुत सारी बातें करता है।
एक व्यक्ति की मौत बाहर निकलने से 40 सेकंड पहले एक शानदार घटना है," उन्होंने कहा। उस समय, कई जन्म चित्र उसके सामने एक व्यक्ति के सामने से गुजरते हैं। दुनिया लगातार शांति और समृद्धि की दिशा में काम कर रही है। वह ईशा योग है।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!