Space for advertisement

हाईकोर्ट ने तब्लीगी जमात मामले में रद्द की FIR, कहा- 'बलि का बकरा बनाया गया

बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) की औरंगाबाद बेंच ने दिल्ली के तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) मामले में देश और विदेश के जमातियों के खिलाफ दर्ज FIR को रद्द कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में तबलीगी जमात को बलि का बकरा बनाया गया। कोर्ट ने साथ ही मीडिया को फटकार लगा’या।

बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) की औरंगाबाद बेंच ने दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) मामले में देश और विदेश के ज’मातियों के खिलाफ दर्ज FIR को रद्द कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में तब’लीगी जमा’त को ‘ब’लि का ब’करा’ बनाया गया। कोर्ट ने साथ ही मीडिया को फट’कार लगाते हुए कहा कि इन लोगों को ही संक्र’मण का जिम्मेदार बताने का प्रॉ’पेगेंडा चलाया गया। वहीं कोर्ट के इस फैसले के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने बी’जेपी पर नि’शाना साधा है। उन्होंने कहा कि इस प्रॉपेगेंडा से मु’स्लिमों को न’फरत और हिं’सा का शि’कार होना पड़ा।

कोर्ट ने शनिवार को मामले पर सुनवाई करते हुए कहा, ‘दिल्ली के मर’कज में आए विदेशी लोगों के खि’लाफ प्रिं’ट और इ’लेक्ट्रॉनिक मी’डिया में बड़ा प्रॉपेगेंडा चलाया गया। ऐसा मा’हौल बनाने की कोशिश की गई, जिसमें भारत में फैले Covid-19 सं’क्रम’ण का जिम्मे’दार इन विदेशी लोगों को ही बनाने की कोशिश की गई। त’बलीगी ज’मात को ब’लि का ब’करा बनाया गया।’


Tablighi Jamaat case: Aurangabad bench of Bombay High Court quashes the FIRs filed against several persons, including foreigners, in the matter.

— ANI (@ANI) August 22, 2020

हाई कोर्ट बेंच ने कहा, ‘भारत में सं’क्रमण के ताजे आंकड़े दर्शाते हैं कि याचिकाकर्ताओं के खिलाफ ऐसे ऐक्शन नहीं लिए जाने चाहिए थे। विदेशियों के खिलाफ जो ऐक्शन लिया गया, उस पर पश्चाचाताप करने और क्षतिपूर्ति के लिए पॉजिटिव कदम उठाए जाने की जरूरत है।’


This is a timely judgement. BJP was minimising the potential risk of the pandemic. The media scapegoated #TablighiJamat to protect BJP from criticism of its wholly inadequate response. As a result of this propaganda Muslims across India faced horrible hate crimes & violence https://t.co/BxJTZiddaw

— Asaduddin Owaisi (@asadowaisi) August 22, 2020

वहीं हैदराबाद से सांसद और AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कोर्ट के इस फैसले की सराहना करते हुए इसे सही समय पर दिया गया फैसला करार दिया। ओवैसी ने ट्वीट कर कहा, ‘पूरी जिम्मेदारी से बीजेपी को बचाने के लिए मीडिया ने तबलीगी जमात को बलि का बकरा बनाया। इस पूरे प्रॉ’पेगेंडा से देशभर में मु’स्लिमों को न’फरत और हिं’सा का शि’कार होना पड़ा।’
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!