Space for advertisement

दशहरे के दिन करें ये सरल और अचूक उपाय, साल भर बरसेगा धन

loading...



बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक यानि दशहरे का दिन. शारदीय नवरात्र के अगले दिन दशहरा मनाया जाता है. हिन्दू पंचांग के मुताबिक इस साल दशहरा 25 अक्टूबर यानि की रविवार को मनाया जाएगा. कहते हैं कि दशहरा दीपावली से ठीक 20 दिन पहले आश्विन माह की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है. इस त्योहार को असत्य पर सत्य की जीत के रूप में मनाया जाता है. कहते हैं अगर इस दिन सही ढंग से पूजा की जाए तो सारे कष्ट दूर होते हैं और धन की प्राप्ति होती है.

कष्ट निवारण और धन प्राप्ति के लिये ऐसे करें पूजन-
-इस दिन लोग शस्त्र-पूजा करते हैं और नए काम की शुरुआत करते हैं. जैसे अक्षर लेखन का आरम्भ, नए उद्योग की शुरुआत, बीज बोना आदि. माना जाता है कि इस दिन -अगर किसी काम को शुरु किया जाता है तो उसमें विजय मिलना निश्चित है. प्राचीन काल में राजा लोग इस दिन विजय की प्रार्थना कर रण-यात्रा के लिए प्रस्थान करते थे.
-किसी भी क्षेत्र में विजय पाने के लिए दशहरे के दिन देवी पूजन करें और उन्हें 10 फल चढ़ाकर गरीबों में बांटें. देवी मां को फल चढ़ाते वक्त ‘ॐ विजयायै नमः’ मंत्र का जाप करें. ये उपाय दशहरे के दिन दोपहर को करें.
-किसी को अपने बुरे कार्यों के लिए अगर यमलोक का भय सता रहा हो तो दशहरे के दिन मां काली का ध्यान करते हुए उनसे क्षमा मांगें और काला तिल चढ़ाएं. माना जाता है कि ऐसा हर साल करने से यमलोक की यातनाओं का डर नहीं सताता.
-कारोबार में लगातार घाटा हो रहा हो तो दशहरे के दिन एक नारियल सवा मीटर पीले वस्त्र में लपेटकर एक जोड़ा जनेऊ, सवा पाव मिष्ठान्न के साथ आस-पास के किसी भी राम मंदिर में चढ़ा दें. तत्काल ही व्यापार अचछा चलना शुरू हो जाएगा.
-दशहरे पर नीलकंठ के दर्शन होने से घर के धन-धान्य में वृद्धि होती है. फलदायी एवं शुभ कार्य घर में होते रहते हैं. इस दिन नीलकंठ दिख जाए तो वो देखने वाले के लिए शुभ होता है. नीलकंठ को देखकर मन ही मन भगवान शिव से अच्छे दिनों के लिए मनोकामना मांगें, जरुर पूरी होगीं.
-मान्यता है कि दशहरे के दिन गुप्त दान करना चाहिए इससे अभीष्ट फल प्राप्त होता है. इस दिन अगर आप कोई नई झाडू खरीद कर किसी मंदिर में ऐसी जगह रख दें जहां इसे कोई नहीं देख सके तो समझिए आपके जीवन से कष्टों का अंत हो जाएगा.
-रावण दहन से पहले मां दुर्गा की सहायक योगिनी जया और विजया का पूजन करें. इसके बाद शमी वृक्ष की पूजा करें और फिर वृक्ष के पास की मिट्टी लाकर अपने घर पर पूजा स्थल या तिजोरी में रख देंगे तो घर में वैभव बना रहेगा.
-दशहरे के दिन दोपहर के समय घर के ईशान कोने में कुमकुम, चंदन और फूलों से अष्टदल कमल की आकृति बनाएं. इसके बाद देवी जया और वजिया का स्मरण करके पूरे विधि विधान से पूजन की जाता है.
-दशहरे के दिन तड़के सुबह हनुमान जी को गुड़ और चना और शाम को लड्डू का भोग लगाकर प्रार्थना करनी चाहिए. ऐसा करने से हर तरह के दुखों से मुक्ति मिल जाती है.
-दशहरे के दिन और शक्ति दुर्गा को 10 तरह के फलों का भोग लगाएं और गरीबों में बांटें. देवी को भोग लगाते समय ‘ॐ विजयायै नम:’ मंत्र का जाप करें. ऐसा करने से हर क्षेत्र में सफलता मिलती है.
-विजयादशमी के दिन मां काली का स्मरण करते हुए उन्हें काला तिल चढ़ाएं और अपनी भूलचूक के लिए क्षमा मांगें. इससे आपको स्वर्ग की प्राप्ति होगी और बुरे सपने नहीं आएंगे.
-दशहरे के दिन से शुरू करके 51 दिन तक रोजाना कुत्तों और गायों को मीठा लड्डू या बेसन की मिठाई खिलाने से सालभर धन संबंधी किसी तरह की कोई कमी नहीं रहती है.
-कहते हैं दशहरे के दिन शाम में माता लक्ष्मी का ध्यान करते हुए किसी भी मंदिर में झाडू का दान करने से धन संबंधी दिक्कतें दूर हो जाती हैं.
-दशहरे पर सुंदरकांड की कथा कराने से सभी रोग और मानसिक परेशानियां दूर हो जाती है.
-दशहरे के दिन हाथों में फिटकरी लें. किसी भी सुनसान जगह या छत पर जाकर इसे अपने ऊपर से इष्ट का स्मरण करके सात बार उबारें और फिर पीठ के पीछे की ओर फेंक दें. बिना मुड़े घर आएं और भगवान के सामने दीपक लगाएं.
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!