Space for advertisement

मां-बाप को लगा मोटापे से निकल रही है इकलौते बेटे की तोंद, जांच में निकला 4 महीने का प्रेग्नेंट

खबर की हैडिंग आपको भी शॉकिंग लग रही होगी। आखिर एक मर्द प्रेग्नेंट कैसे हो सकता है? लेकिन ऐसा सच में हुआ। मामला यूके के मैसाच्युसेट्स से सामने आया। बोस्टन में रहने वाले 18 साल के मिकी चॅनेल का जन्म लड़कों के बॉडी पार्ट्स के साथ हुआ था। जब वो मां के गर्भ में था, तब डॉक्टर्स ने बताया था कि बेटी होने वाली है। लेकिन मिकी का जन्म मेल रिप्रोडक्टिव पार्ट्स के साथ हुआ। इसके बाद उसके पेरेंट्स ने उसे लड़कों की तरह ही पाला-पोसा। लेकिन मिकी की बॉडी के अंदर बच्चेदानी थी। यानी वो किसी महिला की तरह प्रेग्नेंट हो सकता था। अब 18 साल की उम्र में वो मां बनने वाला है। ये अजीबोगरीब घटना वायरल हो रही है। लोग एक लड़के के शरीर में पैदा हुए शख्स को प्रेग्नेंट देख हैरान हैं।





बोस्टन में रहने वाला 18 साल का ट्रांसजेंडर टीनएजर मिकी चैनेल वर्तमान में चार महीने का प्रेग्नेंट है। ये चमत्कार नहीं है। दरअसल, मिकी का जन्म मेल बॉडी ऑर्गन्स के साथ जरूर हुआ था लेकिन उसकी बॉडी में फीमेल रिप्रोडक्टिव सिस्टम मौजूद था।




बचपन में उसके माता-पिता ने उसे लड़कों की तरह पाल-पास कर बड़ा किया था। वो लड़कों की तरह कपडे पहनता था। लेकिन उसे अंदर ही अंदर कुछ अलग महसूस होता था। उसका इंट्रेस्ट लड़कियों के सामान में ज्यादा रहता था।




अभी मिकी चार महीने का प्रेग्नेंट है। उसके सेक्स ऑर्गन्स मर्दों वाले हैं। लेकिन चूंकि उसकी बॉडी के अंदर फीमेल रिप्रोडक्टिव ऑर्गन्स हैं, इस कारण वो प्रेग्नेंट हो पाया।






अपने पास्ट को लेकर मिकी ने बताया कि 5 साल की उम्र में वो अपनी आंटी के पर्स से खेलता था और मां की लिपस्टिक लगता था। सभी को लगता था कि वो सबसे अलग है।





अपना बेबी बंप दिखाता मिकी। अब मां बनने वाले मिकी ने बताया कि स्कूल में सभी उसे बेहद चिढ़ाते थे। उसे अलग-अलग नामों से बुलाया जाता था। मिकी अपने उम्र के लड़कों से अलग था।





13 साल की उम्र में उसे गे बुलाया जाने लगा। हालांकि, तब तक कोई नहीं समझ पाया था कि वो ट्रांसजेंडर है।डॉक्टर्स के पास कई चक्कर लगाने के बाद पता चला कि मिकी को Persistent Müllerian duct syndrome है। इसके बाद डॉक्टर्स ने उसे तुरंत hysterectomy करवाने की सलाह दी।





एक अल्ट्रासाउंड के दौरान मिकी तस्वीर। उसने लोगों को समझाया कि पीडीएमएस वाले लोग कैंसर और ट्यूमर के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं और दोनों का जोखिम कम हो जाता है यदि वे हिस्टेरेक्टॉमी से गुजरते हैं।




18 साल के मिकी ने कहा कि वो हमेशा से पेरेंट्स बनना चाहता था। अब प्रेग्नेंट होकर उसका ये सपना पूरा होने जा रहा है।





बचपन में अपनी दादी के साथ मिकी की तस्वीर। मिकी ने अपनी स्टोरी सोशल मीडिया पर लोगों के साथ उन्हें जागरूक करने के लिए शेयर की है।  उसने बताया कि अब वो पहले से काफी ज्यादा खुश है। मिकी अपने आने वाले बच्चे के इन्तजार में है। आपको निचे दी गयी ये खबरें भी बहुत ही पसंद आएँगी।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!