Space for advertisement

बिहार में नीतीश कुमार का बड़ा तोहफा: 40 शहरों को बनाया जाएगा…



पटना: बिहार में नए साल में शहरी निकायों की संख्या बढ़ जाएगी। शहरीकरण के मानकों में बदलाव कर राज्य सरकार इन निकायों के गठन का रास्ता पहले ही साफ कर चुकी है। ऐसे में जल्द 40 से 50 नए निकाय गठित हो सकते हैं। नए निकायों के बनने से राज्य में शहरीकरण की रफ्तार बढ़ेगी। नगर विकास एवं आवास विभाग ने नए निकायों के लिए जिलों से प्रस्ताव मांगे थे। इन प्रस्तावों की जांच की जा रही है। मानक पर खरे उतरने वाले प्रस्तावों को जल्द कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

बिहार शहरीकरण के मामले में फिलहाल काफी पीछे है। यहां शहरीकरण का आंकड़ा महज 11 प्रतिशत है, जबकि राष्ट्रीय औसत करीब 33 प्रतिशत है। नए निकायों का गठन होने पर यह आंकड़ा 15 प्रतिशत के करीब होने की उम्मीद है। राज्य में नियमों के पेच के चलते लंबे समय से शहरी निकायों का गठन नहीं हो पाया है। एकाध बार हुआ भी तो वह न्यायिक प्रक्रिया में फंस गया। ऐसे में राज्य सरकार ने शहरीकरण के मानकों में बदलाव किया।

इसी साल छह मई को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में राज्य कैबिनेट ने इन बदलावों को मंजूरी देते हुए नए निकाय गठन का रास्ता साफ कर दिया था। नगर विकास एवं आवास विभाग ने तब जिलों से प्रस्ताव भी मांग लिया था। मगर जनसंख्या निदेशालय के एक पत्र के चलते यह काम रुक गया था। अब इसे फिर शुरू करते हुए विभाग ने नए सिरे से प्रस्ताव मांगा। इन प्रस्तावों की जांच के लिए विभाग ने कई टीमें गठित की हैं। जिलों से एडीएम, डीपीआरओ, स्टेटिक अफसर सहित अन्य पदाधिकारियों को भी बारी-बारी से बुलाया गया।

राज्य में शहरीकरण के मौजूदा मानक के अनुसार शहरी निकाय गठन के लिए कुल जनसंख्या की 75 प्रतिशत आबादी खेती पर निर्भर नहीं होनी चाहिए। जनगणना में कुल जनसंख्या का कृषि और गैर कृषि आधारित आबादी का अलग आंकड़ा उपलब्ध नहीं है। नए बदलाव में अब कार्यशील जनसंख्या की 50 प्रतिशत से अधिक आबादी खेती पर निर्भर नहीं होनी चाहिए। यानि सौ में से 51 लोग खेती न करते हों।
राज्य में तमाम अनुमंडल मुख्यालय ऐसे हैं, जहां विकास बहुत कम हुआ है। ऐसे 12 हजार से अधिक आबादी वाले तमाम क्षेत्रों को अब नगर पंचायत बनाने की तैयारी है। 40 हजार से अधिक आबादी वाली नगर पंचायतें अब उच्चीकृत होकर नगर पालिका परिषद बनेंगी।
यह मामला बार-बार विधानसभा और विधान परिषद में उठता रहा है। तब सरकार की ओर से मंत्री कोर्ट से जुड़ा मामला बताते रहे हैं। दरअसल, पूर्व में गठित हरनौत व बिहटा नगर पंचायत के मामलों में हाईकोर्ट ने रोक लगा दी थी। आपको निचे दी गयी ये खबरें भी बहुत ही पसंद आएँगी।
पलंग में जाने से पहले प्याज का छोटा टुकड़ा फिर देखें कमाल
महिलाओं के सारे राज खोल देते हैं ये 2 अंग , जानिये उनकी हर छुपी हुई ख़ास बात
यहाँ महिलाएं गुप्तांग में दबाती है तंबाकू, वजह जानकर उड़ जायेंगे होश
इस खास किसम के मशरूम को सूंघते ही कामुक हो जाती हैं लड़की, वैज्ञानिक भी हैं हैरान
ससुर को लग गई बहू से संबंध बनाने की लत, बेटे को तब लगी भनक जब…
पति ने नहीं खिलाये गोल गप्पे तो पत्नी पहुंच गई थाने, जानिए फिर क्या हुआ
रात को पत्नी ने कहा पांव में पायल चुभ रही है उतार दो, सुबह होते ही पति के उड़ गए होश
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!