Space for advertisement

एक वैश्या ने बताई लॉकडाउन के अंदर जीवन बिताने की आपबीती! कैसे कट रही है उनकी जींदगी ?



घर पर कोई भी नहीं जानता कि हम यौनकर्मी हैं, हर कोई सोचता है कि हम पैसे कमाने के लिए काम करते हैं और हर दिन कार्यालय जाते हैं। देश में न केवल कोरोना संकट है, बल्कि कई लोग लॉकडाउन के कारण भी परेशानी में हैं। उन लोगों को शामिल करना, जिन पर स्थिति भुखमरी की स्थिति पैदा कर दी है। कोरोना, जब से देश में तालाबंदी की घोषणा की गई थी, तब से उनके पास कोई ग्राहक नहीं है।

ऐसी स्थिति में, उनकी आय पूरी तरह से कम हो गई है, हर दिन टूटना उनके लिए एक पहाड़ बन गया है। यौनकर्मियों के बच्चे अपनी तनख्वाह का इंतजार कर रहे हैं। राजस्थान के अजमेर जिले की सेक्स वर्कर नमिता (बदला हुआ नाम) ने अपनी समस्या के बारे में बात की है। और फिर खाने की स्थिति है। घर में कोई भी नहीं जानता है कि हम यौनकर्मी हैं। हर कोई सोचता है कि हम कार्यालय में काम करने जा रहे हैं। जब सरकार ने तालाबंदी की घोषणा की, तो घर पर सभी ने सोचा कि अगर हम काम पर नहीं गए, तो भी हमें भुगतान किया जाएगा।

हमारे बच्चे भी अस्वस्थ हैं। हर दिन वे कहते हैं, आपकी सैलरी कब आएगी? आपकी मां एक सेक्स वर्कर हैं। क्या मुझे इसका जवाब देना चाहिए? मैं इस व्यवसाय में प्रवेश करने के लिए लाचार और मजबूर थी। मुझे बच्चों को क्या खिलाना चाहिए? पति शराब पीते हैं और घर पर पैसे खर्च करते हैं। लागत क्या है? घर के खर्चों को पूरा करने के लिए मुझे यह काम करना होगा।

तालाबंदी के कारण काम रुक गया है और अब पैसा नहीं आ रहा है। नमिता अपने व्यवसाय के बारे में बात करती है और कहती है कि लोग इस वायरस से डरते हैं, मुझे नहीं लगता कि 6-7 महीनों में कोई हमारे पास आएगा। हम भी डरते हैं कि ग्राहक कहां से आएगा। मुझे नहीं पता कि यह कैसे है। यह समस्या केवल नमिता की ही नहीं है, बल्कि उसकी जैसी कई अन्य यौनकर्मियों की भी है जो इन दिनों अपने खर्चों का प्रबंधन नहीं कर पाने से चिंतित हैं।

नमिता की तरह, यह व्यवसाय में लाखों लंकाई श्रमिकों की समस्या है। बढ़ते लॉकडाउन ने उनके संकटों को बढ़ा दिया है। लॉकडाउन ने भुखमरी की स्थिति पैदा कर दी है। लाखों लानिक कार्यकर्ता इस व्यवसाय में शामिल हैं। दिल्ली में एक सेक्स वर्कर का कहना है कि अगर जल्द ही लोखड़ौन नहीं खुला तो हमारे परिवार को भुखमरी का सामना करना पड़ेगा। सरकार ने रातोंरात तालाबंदी कर दी है। हमारे पास आने वाले दिनों की तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं है। वे सभी सरकारी सहायता योजनाओं में भाग नहीं लेते हैं। उनके पास राशन कार्ड नहीं हैं। हजारों श्रमिक सरकारी राशन प्राप्त करने में असमर्थ हैं।

इन सड़कों पर काम करने वाले कितने यौनकर्मी एचआईवी पॉजिटिव और अन्य बीमारियों से पीड़ित हैं लेकिन उनके पास अस्पताल जाने के लिए पैसे नहीं हैं। कर्नाटक के कोलार जिले में रहने वाले यौनकर्मी भी इस समस्या से प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि जिस इलाके में रहते हैं वहां 3,000 यौनकर्मी रहते हैं। बाकि सड़क आधारित हैं और केवल 20% घर हैं। लॉकडाउन में, सड़क आधारित श्रमिकों को सबसे अधिक नुकसान हुआ है।

उनके लिए एक समय के भोजन की व्यवस्था करना भी बहुत मुश्किल हो गया है। सरकार उन पर ध्यान नहीं देती है। ये लाल बत्ती बहुत लोकप्रिय हैं। देश में कई रेड लाइट एरिया हैं जो हमेशा चर्चा में रहते हैं। सोनागाछी को एशिया का सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया माना जाता है। इस व्यवसाय में कम से कम तीन लाख महिलाएं शामिल हैं। दूसरी सबसे बड़ी मुंबई में कामठीपुरा है जहां दो लाख से अधिक महिला श्रमिक हैं। इसके बाद, दिल्ली में जीबी रोड, आगरा में कश्मीरी बाज़ार, ग्वालियर में रेशमपुरा, पुणे में बुध पेठ भी लोकप्रिय हैं। ये सेक्स वर्कर देश के बड़े शहरों तक सीमित नहीं हैं। मेरठ में गंगा जमुनी और कबड्डी बाज़ार अपनी महिला यौन गतिविधियों के लिए प्रसिद्ध हैं।

यहां रहने वाले कुछ लंक श्रमिक दूसरे शहरों में चले गए हैं, जबकि अन्य इन बंद सड़कों पर अपना दिन बिता रहे हैं। उनके पास रहने की कोई उचित स्थिति नहीं है और न ही खाने-पीने की कोई सुविधा है। लंक के श्रमिकों को कोई सरकारी लाभ नहीं मिलता है। चिंतित कुसुम लानिक श्रमिकों के अधिकारों और अधिकारों के लिए काम करता है। कुसुम का कहना है कि घरेलू लानिक कार्यकर्ता बहुत चिंतित हैं। एनजीओ जीबी रोड पर लानिक के कुछ कार्यकर्ताओं तक पहुंचने में मदद कर रहे हैं, लेकिन कोई भी इन यौनकर्मियों के बारे में नहीं जानता है। उन्हें गिनना भी मुश्किल है। आपको निचे दी गयी ये खबरें भी बहुत ही पसंद आएँगी।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!