Space for advertisement

जानिए लिपस्टिक में पाई जाने वाली धातुओं के बारे में जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती हैं


अगर आप लगातार लिपस्टिक का इस्तेमाल करती हैं, तो इससे होने वाले दुष्प्रभावों को जान लें।

गुर्दे की विफलता: लिपस्टिक बनाने में सीसा, कैडमियम, मैग्नीशियम क्रोमियम और एल्यूमीनियम जैसी धातुओं का उपयोग किया जाता है जो खतरनाक बीमारियों के लिए जिम्मेदार हैं। इतना ही नहीं, यह शरीर के आंतरिक अंगों को भी पूरी तरह से नुकसान पहुंचा सकता है। इसमें बहुत अधिक मात्रा में कैडमियम होता है, जो गुर्दे की विफलता का खतरा बढ़ाता है। इससे पेट में मरोड़ भी हो सकती है।

कैंसर का खतरा: लिपस्टिक में बड़ी मात्रा में लेड का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। इससे महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। साथ ही यह शरीर में पहुंचकर रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता को कम करता है। तंत्रिका तंत्र, इससे महिलाओं की सीखने और याद रखने की क्षमता कम हो जाती है। चिड़चिड़ापन और झगड़ालू प्रवृत्ति उसके स्वभाव में होती है। लेड में न्यूरोटॉक्सिन नामक तत्व होते हैं जो तंत्रिका तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। इससे मस्तिष्क क्षति, हार्मोनल असंतुलन और बांझपन जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

त्वचा के लिए हानिकारक: लिपस्टिक में इस्तेमाल होने वाले अन्य रसायन आपकी संवेदनशील त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे त्वचा और आंखों में जलन, एलर्जी, शरीर में जकड़न और गले में खराश हो सकती है। इसमें इस्तेमाल होने वाले खनिज तेल त्वचा के छिद्रों को बंद कर सकते हैं।

तंत्रिका तंत्र प्रभावित: इसमें मौजूद मैग्नीशियम भी भारी मात्रा में शरीर में जाता है। लंबे समय तक शरीर में मैग्नीशियम की अधिक मात्रा के कारण, यह आपके तंत्रिका तंतुओं को प्रभावित कर सकता है।आपको निचे दी गयी ये खबरें भी बहुत ही पसंद आएँगी।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!