---Third party advertisement---

कैसे पुलिस की पकड में आया दीप सिद्धू, पुलिस ने बताई पूरी कहानी



नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित लाल किले पर एक धार्मिक ध्वज लगाने और ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा के आरोपी दीप सिद्धू को दिल्ली पुलिस ने हरियाणा से गिरफ्तार किया है. पंजाबी अभिनेता सिद्धू को पुलिस मंगलवार को 4.30 बजे तीस हजारी कोर्ट में पेश करेगी. बताया गया कि अदालत में पेशी के बाद क्राइम ब्रांच को सौंप देगी.

पुलिस ने बताया कि दीप सिद्धू को करनाल के पास से करीब 10.30 बजे गिरफ़्तार किया गया. उस वक्त वह अकेला खड़ा किसी का इंतज़ार कर रहा था. पुलिस के मुताबिक, दीप सिद्धू ने पूछताछ में बताया कि वह बिहार के पूर्णिया जाने की कोशिश में था. दीप की पत्नी और परिवार इस वक्त पूर्णिया में हैं.

पुलिस की स्पेशल सेल ने बिहार, मुंबई, रांची, हिमाचल और पंजाब में लगातार रेड्स की, तब जाकर दीप की गिरफ्तारी हुई. पुलिस ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि 26 जनवरी के बाद दीप सिद्धू पंजाब, यूपी, हिमाचल और हरियाणा में रुका. उन्होंने कहा कि वह अपने दोस्तों के मोबाइल फोन से वीडियो अपलोड करता था. पुलिस ने CRPC की 41 सेक्शन में गिरफ्तार किया है, जो वान्टेड आरोपियों के लिए सेक्शन होता है.

दिल्ली पुलिस के पीआरओ चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीम ने 26 जनवरी को लाल किले और दिल्ली के अन्य हिस्सों में हिंसा के मुख्य आरोपी दीप सिद्धू को गिरफ्तार किया है. उसकी तस्वीरें सार्वजनिक हो गई हैं. हमने उसकी गिरफ्तारी पर 1 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था. आगे की जांच चल रही है.

गौरतलब है कि केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की किसान संगठनों की मांग के समर्थन में 26 जनवरी को किसानों ने ‘ट्रैक्टर परेड’ निकाली थी और इस दौरान किसानों और पुलिस के बीच झड़पें हुई थीं. इस दौरान बहुत से प्रदर्शनकारी ट्रैक्टर चलाते हुए लाल किले तक पहुंच गए थे और उन्होंने वहां एक ध्वजस्तंभ में धार्मिक झंडा लगा दिया था.

मेरे पास हर बात की दलील- दीप सिद्धू
बता दें हिंसा के बाद से ही सिद्धू अलग-अलग जगहों से फेसबुक लाइव कर रहा था. उसने किसान नेताओं पर भी गंभीर आरोप लगाए. इसके फेसबुक लाइव में टेक्नीकल हेल्प एक महिला मित्र करती थी जो देश से बाहर रहती है. इसका भी खुलासा दिल्ली पुलिस अपनी प्रेस वार्ता में करेगी. फेसबुक लाइव के दौरान किसी किस्म के इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से बचने के लिए सिद्धू, विदेश में बैठी महिला मित्र की मदद लेता था.

गौरतलब है कि दीप सिद्धू ने कुछ दिन पहले ही फेसबुक लाइव के जरिए किसान नेताओं को खुली चेतावनी दी थी. खुद को गद्दार कहे जाने से नाराज सिद्धू ने किसान नेताओं को धमकी दी थी, ‘अगर उन्‍होंने अपना मुंह खोला और किसान आंदोलन की अंदर की बातें खोलनी शुरू कीं तो इन नेताओं को भागने का रास्‍ता भी नहीं मिलेगा.’ दीप सिद्धू ने कहा, ‘मेरी बात को डायलॉग न समझें, ये बात याद रखना, मेरे पास हर बात की दलील है. मानसिकता बदलो.’

Post a Comment

0 Comments