Space for advertisement

हरिद्वार में कुंभ को लेकर आ गई बड़ी खुशखबरी, जानकर झूम उठेंगे आप




देहरादून। अब हरिद्वार कुंभ में आने के लिए कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं होगी। लेकिन कोविड-19 नियमों का सख्ती से पालन करना होगा। यह कहना है उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का। वह शनिवार को पत्रकारों से बात कर रहे थे। वहीं उन्होंने कहा कि देवस्थानम बोर्ड और गैरसैंण को मंडल बनाने के फैसले पर भी विचार किया जाएगा।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि 12 सालों के बाद होने वाला महाकुंभ श्रद्धा और भावनाओं से जुड़ा है। जिसमें देश दुनिया के करोड़ों श्रद्धालुओं की गंगा के प्रति आस्था रहती है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कुंभ के लिए पर्याप्त बसों का इंतजाम किया जाए। वहीं, कुंभ क्षेत्र की सड़कों की मरम्मत व साफ सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए।

शनिवार को सीएम आवास स्थित कार्यालय में मुख्यमंत्री ने उच्च अधिकारियों के साथ कुंभ मेले की व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि कुंभ स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालु बिना किसी असुविधा के सुखद संदेश लेकर जाएं। यह सबका दायित्व है। इसके लिए सभी अधिकारी आपसी समन्वय व समय सीमा के साथ व्यवस्थाओं को पूरा करें।

शंकराचार्यों व अखाड़ों को भूमि उपलब्ध कराई जाए
सीएम ने निर्देश दिए कि कुंभ क्षेत्र की सड़कों की मरम्मत के साथ ही सड़कों पर पड़ी निर्माण सामग्री को तुरंत हटाया जाए। कुंभ मेला क्षेत्र को स्वच्छ व सुंदर बनाने के लिए सफाई निरीक्षकों और कार्मिकों की तैनाती की जाए। मेले में आने वाले शंकराचार्यों व अखाड़ों को भूमि उपलब्ध कराने के साथ उन क्षेत्रों में आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए।

उन्होंने कुंभ मेले की व्यवस्थाओं के लिए अतिरिक्त अधिकारियों की तैनाती शीघ्र करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मेले के लिए अतिरिक्त व्यवस्थाओं का प्रस्ताव दो दिन के भीतर शासन को उपलब्ध कराने को कहा है।

बैठक में मुख्य सचिव ओम प्रकाश, पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार, प्रमुख सचिव आनंद वर्द्धन, आरके सुधांशु, सचिव अमित नेगी, शैलेश बगोली, नितेश झा, राधिका झा, दिलीप जावलकर, सौजन्या, आयुक्त गढ़वाल रविनाथ रमन, सूचना महानिदेशक डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट के अलावा वीडियो कांफ्रेंसिंग से हरिद्वार, देहरादून, टिहरी व पौड़ी जिला के डीएम जुड़े थे।

661 करोड़ से किए जा रहे 203 कार्य

मेलाधिकारी दीपक रावत ने बताया कि कुंभ मेले की व्यवस्थाओं के लिए 661 करोड़ के 203 निर्माण कार्य किए जा रहे हैं। इनमें अधिकतर स्थायी कार्य पूरे हो चुके। जबकि अस्थायी निर्माण कार्य तेजी से किए जा रहे हैं। उन्होंने कुंभ के कार्यों की जानकारी दी। जबकि आईजी मेला संजय गुंज्याल ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर प्रस्तुतीकरण दिया।

12 अप्रैल के शाही स्नान पर बेहतर होगी पुलिसिंग : डीजीपी
11 मार्च को महाशविरात्रि स्नान पर्व पर किरकिरी होने के बाद अब 12 अप्रैल के शाही स्नान पर्व पर कुंभ और जिला पुलिस व्यवस्थाओं में सुधार करेगी। हरिद्वार पहुंचे डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि कुछ जगहों पर तैनात पुलिसबल ने ठीक से ड्यूटी नहीं की।

शनिवार को मेला नियंत्रण कक्ष सभागार में पुलिस अधिकारियों की डी ब्रीफिंग में पहुंचे पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि महाशिवरात्रि के दौरान ओवरऑल व्यवस्थाएं अच्छी रही। उन्होंने महाशिवरात्रि स्नान पर्व पर ड्यूटी करने वाले जोनल, सेक्टर और थाना प्रभारियों से अनुभव पूछे।

जोन, सेक्टर, थाना, शाखा, सेंट्रल पैरामिलट्री फोर्स के प्रभारियों से सुझाव भी लिए। उन्होंने कहा कि आगामी शाही स्नानों पर यह सुनिश्चित किया जाए कि मेला पुलिस व्यवस्था से संबंधित जो भी ब्रीफिंग, आदेश, निर्देश उच्च अधिकारियों की ओर से दिए जाते हैं वह फील्ड में तैनात अंतिम पंक्ति के जवान तक अच्छे से पहुंचाए जाएं।

उन्होंने कहा कि नौ से 15 अप्रैल तक काफी भीड़ होगी। इसमें खास ध्यान रखने की जरूरत होगी। इस दौरान आईजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल, डीआईजी नीरू गर्ग, एसएसपी हरिद्वार सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस आदि अधिकारी मौजूद रहे।
सिस्टम से होगी वाहनों की पार्किंग
डीजीपी ने कहा कि गौरीशंकर, दूधियाबंध, सप्तऋषि, शांतिकुंज सहित सभी पार्किंगों में आगामी शाही स्नानों से पहले प्रत्येक दशा में आवश्यक व्यवस्थाओं को मेला प्रशासन के माध्यम से ठीक कराया जाए। उन्होंने बड़े जोन और सेक्टरों को विभाजित कर छोटे बनाने के निर्देश दिए।

वायरलेस सेट लें सभी प्रभारी

डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि शाही स्नान के दौरान आने वाली ज्यादा भीड़ के कारण मेला क्षेत्र में लगे मोबाइल के टावर ओवरलोड हो जाएंगे। मोबाइल के माध्यम से आपस में संपर्क करने में मुश्किल आएंगी। इसलिए सभी जोनल, सेक्टर और शाखा प्रभारी अपनी-अपनी आवश्यकताओं के अनुसार वायरलेस सेट प्राप्त कर लें।

डायवर्जन में लगेगी अधिक फोर्स

डीजीपी ने आगामी शाही स्नान पर्वों पर डायवर्जन में अधिक फोर्स लगाने के निर्देश दिए। साथ ही ऋषिकुल को अलग सेक्टर बनाने और आवश्यकता अनुसार ऋषिकुल में उपलब्ध स्थान का सदुपयोग करने, रोड़ी बेलवाला सेक्टर में एक इंस्पेक्टर और देने और हरिद्वार में पूर्व में तैनात रहे ट्रैफिक इंस्पेक्टर की कुंभ में ड्यूटी लगाने को कहा।
चक्रव्यूह का बनेगा अलग से जोन
पैदल यातायात और घाट व्यवस्था के संबंध में उन्होंने कहा कि हरकी पैड़ी के आसपास जितने भी होल्डअप (चक्रव्यूह) हैं उन सभी का अलग से जोन बनाया जाए।

होल्डअप एरिया में पुलिस बल की संख्या बढ़ाते हुए घुड़सवार पुलिस भी लगाई जाए। डीजीपी ने लावारिस पशुओं को हरहाल में मेला क्षेत्र से हटाने के निर्देश दिए।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!