Space for advertisement

वीरेंद्र सहवाग के 10 जवाब जो उन्हें बनाते हैं दुनिया का सबसे मजकियाँ क्रिकेटर..*



पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग को दुनिया भर के सबसे बेहतरीन क्रिकेटरों में से एक माना जाता है. वह सबसे अधिक मनोरंजक और योग्य क्रिकेटरों में से एक हैं. वह कभी भी अपने प्रशंसकों को खुश करने में विफल नहीं होता है और अपने मजाकिया मजाक के साथ सभी का मनोरंजन करता है. आज इस लेख में हम सहवाग 10 ऐसे जवाब के बारे में जानेगे, जो उन्हें सबसे फनी क्रिकेटर साबित करता हैं.

1) जब वीरेंद्र सहवाग ने उनके और सचिन तेंदुलकर के बीच अंतर का खुलासा किया

सहवाग को अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में कुछ ही साल हुए थे, जब उनसे और सचिन तेंदुलकर के बीच अंतर के बारे में पूछा गया था. उससे पूछा गया था,

“आप और सचिन में क्या अंतर है?”

जिसका जवाब देते हुए सहवाग ने करारा जवाब दिया. उन्होंने कहा, “हमारा बैंक बैलेंस.”

2) वीरेंद्र सहवाग ने जेफ्री बॉयकॉट को करारा जवाब दिया

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर जेफ्री बॉयकॉट ने एक बार वीरेंद्र सहवाग की प्रशंसा करते हुए कहा था कि वह सबसे प्रतिभाशाली बल्लेबाजों में से एक हैं जिन्हें उन्होंने देखा है, लेकिन उन्होंने यह भी दावा किया कि सहवाग दिमागहीन बल्लेबाज हैं. सहवाग ने जवाब दिया था,

“बॉयकॉट जो कहना चाहे कह सकते हैं. उन्होंने एक बार पूरे दिन बल्लेबाजी की और सिर्फ एक चौका लगाया था.”

3) माइकल क्लार्क को दी नसीहत

माइकल क्लार्क के ऑस्ट्रेलियाई साथियों ने उन्हें ‘पुप’ नाम दिया है. उन्हें वीरेंद्र सहवाग ने भी नहीं बख्शा था.

यह 2004 में हैदराबाद में हुए टेस्ट के दौरान था जब माइकल क्लार्क सचिन को स्लेज कर रहे थे और यही बात वीरेंद्र सहवाग के अच्छी नहीं लगी और वह सचिन के बचाव आये और उन्होंने इस लड़ाई का अंत किया. सचिन ने क्लार्क से पूछा एक साधारण सवाल, उन्होंने कहा,

“आपके साथी आपको पप कहते हैं, ठीक है?”, जिस पर क्लार्क ने उत्तर दिया, “हां दोस्त”. वीरेंद्र सहवाग ने तब पूछा: “कौन सी नस्ल?”

4) मुल्तान टेस्ट के दौरान वीरेंद्र सहवाग ने छक्का लगाकर 300 रन पूरे किए

यह 2004 में मुल्तान टेस्ट का एक दिलचस्प किस्सा है, जिसने सभी प्रशंसकों को मोहित किया है. यह तब हुआ जब सहवाग 295 पर थे, जब तेंदुलकर उनके पास गए और कहा कि उन्हें यह नहीं करना चाहिए. सचिन ने कहा था,

“तू छक्का नहीं मरेगा.”

जिसके बाद सहवाग ने जवाब दिया था, “सकलेन मुश्ताक बॉल करने आया तो मैं जरुर मरूँगा.”

अगली गेंद पर, जब मुश्ताक गेंदबाजी करने आए, तो सहवाग ने शानदार छक्का जड़ा, और वह तिहरा शतक बनाने वाले पहले भारतीय बने.

5) वीनू मांकड पर सहवाग ने कहा

यह 2006 में था, जब वीरेंद्र सहवाग और राहुल द्रविड़ ने पाकिस्तान के खिलाफ खेलते हुए वीनू मांकड़ की 413 की उच्चतम साझेदारी के रिकॉर्ड के करीब थे, जब एक रिपोर्टर ने वीरेंद्र सहवाग को बताया था कि वह और राहुल द्रविड़ उनका रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं. जिस बाद वीरेंद्र सहवाग ने कहा: “कौन हैं वीनू मांकड़?”

6) जब वीरेंद्र सहवाग ने एक योजना के साथ अब्दुल रज्जाक को जवाब दिया

यह तब हुआ जब सहवाग वर्ष 2003 में लीसेस्टरशायर से खेल रहे थे और उन्होंने जेरेमी स्नेप के साथ अब्दुल रज्जाक का सामना करते हुए एक बड़ी मुसीबत खड़ी कर दी थी, जो गेंद को रिवर्स स्विंग करा रहा था. रज्जाक को संभालने के लिए, वीरेंद्र सहवाग ने जेरेमी स्नेप के साथ एक योजना बनाई और कहा कि “मेरे पास एक योजना है. हमें इस गेंद को खोना देना चाहिए.”

और अगली ही डिलीवरी में सहवाग ने स्टेडियम के बाहर गेंद मारी और गेंद खो गई. वीरेंद्र सहवाग इसके बाद स्नेप के पास गए और दावा किया, “अब हम एक घंटे के लिए सेफ हैं.”

7) जब सहवाग 195 के स्कोर पर बाउंड्री पर आउट हुए

यह 2003 के मेलबर्न टेस्ट के दौरान हुआ था, जब वीरेंद्र सहवाग 195 रन पर थे, तब वह छक्का मारने की कोशिश कर रहे थे, राहुल द्रविड़ ने उनके पास जाकर कहा, “आप दोहरे शतक से सिर्फ पांच सिंगल दूर थे, आप इसे आसानी से पूरा कर सकते थे.”

जिसके लिए वीरेंद्र सहवाग ने जवाब दिया, “मैं सिर्फ तीन गज की दूरी पर छक्का लगाने से चूक गया.”

8) बॉल को हिट करता हूँ बॉलर को नहीं

वीरेंद्र सहवाग को भारत के सबसे विनाशकारी बल्लेबाजों में से एक माना जाता है. वह ग्लेन मैक्ग्रा और ब्रेट ली जैसे महान बल्लेबाजों को आसानी से हिट करते थे. एक बार एक पत्रकार द्वारा उनसे पूछा गया था कि उन्होंने किस तरह से तेज गेंदबाजों को बार-बार बाउंड्री पर मारा, जिसके बारे में उन्होंने एक मजाकिया जवाब देते हुए कहा,“मैं गेंदबाज को नहीं मारता, मैं गेंद को हिट करता हूँ.”

9) अपने फूटवर्क पर सहवाग ने कहा

वीरेंद्र सहवाग की आलोचना उनके गंदे फुटवर्क लेकर कई बार गई थी. इसलिए, जब एक समाचार रिपोर्टर ने एक बार वीरेंद्र सहवाग से उनके टेढ़े-मेढ़े फुटवर्क के बारे में पूछा, तो उन्होंने जवाब दिया, “उन्हें नहीं पता कि मैं फ्लैट पिचों पर 10 बाल्टी पानी फेंकता था, बस उस शॉट का अभ्यास करने के लिए.”

10) सहवाग को टीम इंडिया से निकाले जाने पर

2011 के विश्व कप के बाद, जब वीरेंद्र सहवाग को भारतीय क्रिकेट टीम से हटा दिया गया था, एक इंटरव्यू में उनसे पूछा गया था,

“शायद आप कभी दोबारा भारत के लिए नहीं खेल पाएंगे.” जिस पर सहवाग ने जवाब दिया, “ठीक है लेकिन इससे किसका नुकसान है?”
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!