Space for advertisement

बिहार में रेस्टोरेंट और ढाबे पर नहीं खा सकते हैं खाना, रात नौ बजे तक ही होगी होम डिलिवरी, पढ़ें नई गाइडलाइंस




बिहार में कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं। वायरस पर नियंत्रण को लेकर सरकार ने शनिवार को राज्यपाल की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक की। इसके बाद रविवार को सभी जिलाधिकारियों से बात की। शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने क्राइसिस मैनजमेंट और सर्वदलीय बैठक में लिए गए फैसले की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आज 8690 पॉजिटिव केस मिले हैं।

मुख्यमंत्री ने राज्य में नाइट कर्फ्यू लगाने का एलान किया है। मुख्यमंत्री ने जिलों के प्रशासनिक और पुलिस टीम को इसे सख्ती के साथ लागू करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि सब्जी, फल, अंडे और मांस बेचने वाली सभी दुकानें शाम 6 बजे तक ही खुली रहेंगी। लोग रेस्तरां और ढाबों में खाना नहीं खा सकते हैं रात नौ बजे तक होम डिलिवरी की जाएगी। इसके अलावा डॉक्टरों को एक माह का अतिरिक्त वेतन दिया जाएगा।



यहां पढ़िए क्या खुला और बंद रहेगा
15 मई तक सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग और अन्य शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे। वहीं, इस अवधि में किसी भी तरह की परीक्षा नहीं ली जाएगी। हालांकि यह निर्देश बीपीएससी, एसएससी और तकनीकी चयन आयोग परीक्षा पर लागू नहीं होगा।

पिछले वर्ष की तरह कोरोना संक्रमित मरीज मिलने वाले एरिया को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा।
सभी सिनेमा हॉल, मॉल, क्लब, जिम, स्वीमिंग पुल, पार्क और उद्यान बंद रहेंगे।
रात्रि 9 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा। हालांकि यात्रा और शादी समारोह पर यह लागू नहीं होगा।
रेस्टारेंट, ढाबा और भोजनालय में बैठकर खाने पर प्रतिबंध रहेगा। लेकिन होम डिलीवरी का संचालन रात्रि 9 बजे तक ही होगा।

सरकारी एवं निजी कार्यालय 5 बजे तक बंद हो जाएंगे।
सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी तरह के सरकारी एवं निजी आयोजन पर रोक रहेगी। यह शादी और श्राद्ध कार्यक्रम पर लागू नहीं होगा। वहीं, दफन और दाह संस्कार के लिए सिर्फ 25 लोगों की अनुमति होगी।
श्राद्ध और शादी कार्यक्रम में सिर्फ 100 लोग तक की अनुमति होगी। वहीं, मोहल्लावार दुकानें खोलने की अनुमति होगी। इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा तय किया जाएगा। भीड़-भाड़ वाली मंडियों को बड़े इलाकों में स्थान्तरित किया जा सकेगा।
नगर क्षेत्र एवं प्रखंड मुख्यालय में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए धारा 144 लगाई जा सकती है।
आवश्यक सेवाओं परिवहन, बैंकिंग, डाक, स्वास्थ्य सेवा, मेडिसिन स्टोर, फायर, पुलिस, एंबुलेंस आदि में छूट रहेगी।
मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और अनुमंडल अस्पतालों में गंभीर मरीज के उपचार की व्यवस्था की जाएगी।
होम आइसोलेशन के व्यक्ति की डेली मॉनिटरिंग की जाएगी।
सभी सरकारी अस्पताल और मेडिकल कॉलेजों में लिक्विड गैस ऑक्सीजन के प्लांट की व्यवस्था की जाएगी।
बाहर से आने वाले लोगों की स्थिति की मॉनिटरिंग की जाएगी।
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!