Space for advertisement

IPL जब शेन वॉट्सन ने अकेले दम पर चेन्नई को तीसरी बार बनाया था चैंपियन

 

आईपीएल 2018 के फाइनल मैच में जो कि वानखेड़े स्टेडियम मुंबई में खेला गया, में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने सनराइज़र्स हैदराबाद की टीम को हरा दिया। शेन वॉटसन के जुझारू शतक ने हैदराबाद के 179 रनों के शक्तिशाली स्कोर को छोटा बना दिया और 9 गेंद शेष रहते हुए8 विकेट से हैदराबाद को मात दे दी। 

वॉटसन की पारी को दो भागों में बाँट कर देखा जा सकता है। इनिंग्स प्रारम्भ करने आये वॉटसन शुरू में अपने शॉट्स में टाइमिंग नहीं दे पा रहे थे। लेकिन जैसे ही उन्होंने लॉन्ग हैंडिल का उपयोग शुरू किया, फिर उनको रोकने वाला कोई नहीं था। वॉटसन ने निश्चित रूप से हैदराबाद के गेंदबाज़ों की कुटाई कर दी। उन्होंने अपनी 117 रन  की पारी में , जो केवल 57 गेंद में बने थे, 11  चौके और 8 छक्के मारे। चेन्नई की ओर से सुरेश रैना ने 24 गेंदों में 32 रन, तीन चौके और एक छक्के की सहायता से बनाये, जो कि वॉटसन के बाद दूसरा सबसे बड़ा स्कोर था। इन दोनों ने मिलकर दूसरे विकेट की साझेदारी में 117 रनों का योगदान किया।

सनराइज़र्स हैदराबाद के गेंदबाज़ों के भरसक प्रयास के बावजूद वे वॉटसन के हमले को रोकने में नाकामयाब रहे। भुवनेश्वर कुमार और राशिद खान ने अवश्य अपने 8 ओवरों में कुल मिलाकर 41 रन दिए और वॉटसन को कुछ हद तक रोके रखा। किन्तु दोनों बोलर्स कोई विकेट नहीं लेपाए।

मैच के प्रारम्भ में चेन्नई ने टॉस जीतकर हैदराबाद को बैटिंग के लिए आमंत्रित किया। हैदराबाद के कप्तान केन विलियम्सन ,शाकिब अल हसन, यूसुफ़ पठान और कार्लोस ब्रैथवेट की उपयोगी पारियों की बदौलत 6 विकेट खोकर 178 राण का अच्छा स्कोर बनाया।केन विलियम्सन नेसीजन में सातवीं बार अपनी टीम के लिए सर्वाधिक रन (47) बनाये। दूसरे विकेट के लिए शिखर धवन और विलियम्सन के बीच हुई 51 रनों की साझेदारी पारी की सर्वश्रेष्ठ साझेदारी साबित हुई। सनराइज़र्स ने पावर प्ले में 42 रन एक विकेट के नुकसान पर, बीच के 9 ओवर्स में 84 रन, और अंत के 5 ओवर में 52 रन बनाये।

मैच की सबसे बेहतरीन पारी शेन वॉटसन द्वारा खेली गयी,हालाँकि वॉटसन पहली 10 गेंदों पर खाता भी नहीं खोल पाए थे लेकिन जैसे ही गेंद ने स्विंग करना बंद किया ,वॉटसन गेंदबाज़ों पर टूट पड़े और 33 गेंद पर अपने पहले 50 रन पूरे किये और अगली 18 गेंद में 50 रन बनाकर अपना शतक पूरा कर लिया। वॉटसन ने शतक 17 वें ओवर में पूरा किया ,यह सेंचुरी वॉटसन की आईपीएल में चौथी सेंचुरी थी।

सनराइज़र्स हैदराबाद की और से कप्तान विलियम्सन को पारी के दूसरे ही ओवर में बैटिंग के लिए उतरना पड़ा। अपनी पहली 19 गेंद पर वह मात्र 18 रन ही बना पाये, परन्तु उसके बाद टीम की आवश्यकता को ध्यान में रखकर तेज़ खेलना प्रारम्भ किया और अगली 17 गेंदों में 29 रनठोक दिए। उस दिन ब्रावो उनके पसंदीदा गेंदबाज़ थे, जिन पर विलियम्सन ने तीन चौके और एक छक्का जड़ दिया।

loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!