Space for advertisement

10 में से 8 फैंस को भी नहीं याद होगा, ये थे IPL 2008 के 5 सबसे धांसू खिलाड़ी



2008 में जब आईपीएल की शुरुआत की गयी थी तो किसी कोई उम्मीद नहीं थी ये टूर्नामेंट इतना सफल होगा. ये बीसीसीआई का क्रिकेट कोप बढ़ावा लेने के लिए प्रयोग किया गया था लेकिन अब 12 सीजन के बाद ये टूर्नामेंट दुनिया का सबसे लोकप्रिय क्रिकेट इवेंट बन चूका हैं.

आज इस लेख में हम आईपीएल के पहले सीजन में सबसे शानदार प्रदर्शन करने वाले टॉप 5 खिलाड़ियों के बारे में जानेगे.

1) शॉन मार्श

अनजान खिलाड़ी के रूप में आईपीएल डेब्यू करने वाले शॉन मार्श ने अपने स्ट्रोक-प्ले की रेंज के साथ दुनियाभर में लोकप्रिय हासिल की. मार्श के अद्भुत प्रदर्शन के कारण ही किंग्स इलेवन पंजाब आईपीएल 2008 के प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई करने में सफल रही थी.

सीजन में मार्श ने खेले 11 मैचों में 68.44 की औसत और 139.68 की दमदार स्ट्राइक रेट से सबसे अधिक 616 रन बनाने के बाद ऑरेंज कैप जीती थी.

2) सनथ जयसूर्या

आईपीएल के पहले सीजन के दौरान श्रीलंकन दिग्गज सनथ जयसूर्या अपने करियर के आखिरी पढाव में थे, इसके बावजूद मुंबई इंडियंस ने उन पर दांव खेला था. जिसके बाद सीजन के दौरान जयसूर्या मार्श के बाद दूसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे थे.

श्रीलंका के महान ऑलराउंडर सनथ जयसूर्या ने 14 मैचों में 166.34 की शानदार स्ट्राइक रेट से 514 रन बनाये थे और एक ताबड़तोड़ भी लगाया था.

3) शेन वॉटसन

ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर शेन वॉटसन ने राजस्थान रॉयल्स की ओर से खेलते हुए बैट और बॉल दोनों से अद्भुत प्रदर्शन करते हुए सीजन के दौरान मैन ऑफ द टूर्नामेंट का अवार्ड जीता था.

वॉटसन ने सीजन में खेले 15 मैचों में 472 रन बनाने के साथ-साथ 17 विकेट लेकर अपनी टीम को चैंपियन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

4) सोहेल तनवीर

सोहेल तनवीर सीजन के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे थे. पाकिस्तान के खब्बू बॉलर ने सीजन के दौरान सिर्फ 14 रन देकर 6 विकेट लेने का कारनामा भी किया था जोकि आईपीएल 2019 से पहले आईपीएल इतिहास कस सर्वोच्च गेंदबाजी प्रदर्शन भी रहा था.

आईपीएल 2008 आईपीएल का अकेले ऐसा सीजन था, जिसके पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने भी हिस्सा लिया था.

5) शेन वॉर्न

आईपीएल 2008 से पहले शेन वॉर्न ने अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. लेकिन राजस्थान रॉयल्स ने फिर भी उन्हें टीम का कप्तान नियुक्त किया था. जिसके बाद उन्होंने टीम के युवा खिलाड़ियों के उनका सर्वोच्च प्रदर्शन निकलवाया और अपनी टीम को पहला खिताब जिताया था.

वॉर्न ने सीजन के दौरान खेले 15 मैचों में 19 विकेट झटके थे और आईपीएल 2008 के दूसरे सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे थे.
loading...

Post a Comment

0 Comments

Adblock Detected

Like this blog? Keep us running by whitelisting this blog in your ad blocker

Thank you

×
Get the latest article updates from this site via email for free!