---Third party advertisement---

बिहार मे बिछेगा रेलवे लाइन का जाल, कई जिलों सहित इस राज्य के लिए होगी डायरेक्ट रेलमार्ग




केंद्र सरकार व बिहार सरकार के स्तर पर प्रदेश की अन्य राज्यों से कनेक्टिविटी विस्तार के लिए कई कार्य जारी हैं. एक्सप्रेसवे से लेकर मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी को प्रोत्साहन दिया जा रहा है. इसके साथ ही रेलवे भी अपनी सुविधाएं बढ़ाने के साथ ही संपर्कता के लिए विशेष कार्ययोजना पर आगे बढ़ रही है. इसी क्रम में लगभग 206 किलोमीटर लंबे सकरी-निर्मली एवं झंझारपुर-लौकहा बाजार और सहरसा-फारबिसगंज में आमान परिवर्तन का कार्य किया जा रहा है. इन्हीं में एक है सकरी-निर्मली-झंझारपुर-लौकहा बाजार एवं सहरसा- फारबिसगंज आमान परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत तमुरिया-घोघरडीहा की करीब 11 किमी रेल लाइन, घोघरडीहा-निर्मली की भी करीब 11किमी रेल लाइन, और ललितग्राम-नरपतगंज-फारबिसगंज की 29 किमी की रेल लाइन. इस कार्य को वर्ष 2022 में ही पूरा कर लिए जाने की संभावना है. फारबिसगंज तक रेल कनेक्टिविटी होने के बाद जोगबनी, कटिहार और गुवाहाटी से कोसी-मिथिला का सीधा रेल संपर्क उपलब्ध हो जाएगा.

बता दें कि पूर्व मध्य रेल द्वारा नई लाइन, दोहरीकरण, आमान परिवर्तन सहित कई निर्माण परियोजनाओं पर कार्य तेज गति से जारी है. इसी क्रम में लगभग 206 किलोमीटर लंबे सकरी-निर्मली तथा झंझारपुर-लौकहा बाजार की 94 किमी रेल लाइन एवं सहरसा-फारबिसगंज की 111 किमी रेल लाइन पर आमान परिवर्तन का कार्य किया जा रहा है. इस परियोजना पर लगभग 1471 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है.

लगभग 94 किलोमीटर लंबे सकरी-निर्मली तथा झंझारपुर-लौकहा बाजार आमान परिवर्तन परियोजना में से सकरी-मंडन मिश्र हॉल्ट जो कि 11 किमी लंबी है, मंडन मिश्र हॉल्ट-झंझारपुर करीब 09 किमी, झंझारपुर-तमुरिया के बीच 09 किमी का कार्य पूरा हो चुका है एवं शेष पर कार्य तीव्रगति से जारी है.

इसी तरह 111 किलोमीटर लंबे सहरसा-फारबिसगंज आमान परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत अब तक सहरसा- गढ़बरूआरी करीब 16 किमी, गढ़बरूआरी-सुपौल लगभग 11 किमी, सुपौल-सरायगढ़ के बीच 25 किमी, सरायगढ़-राघोपुर के बीच, 11 किमी एवं राघोपुर-ललितग्राम के बीच 20 किमी रेलखंड सहित अब तक कुल 83 किमी आमान परिवर्तन का कार्य पूरा कर लिया गया है. इस परियोजना का शेष कार्य जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा.

सकरी-निर्मली-झंझारपुर-लौकहा बाजार एवं सहरसा- फॉरबिसगंज आमान परिवर्तन परियोजना के अंतर्गत तमुरिया-घोघरडीहा 11 किमी रेल लाइन, घोघरडीहा-निर्मली 11किमी रेल लाइन, ललितग्राम-नरपतगंज-फॉरबिसगंज 29 किमी रेल लाइन का कार्य वर्ष 2022 में पूरा कर लिए जाने की संभावना है.

फारबिसगंज तक रेल कनेक्टिविटी होने के बाद जोगबनी, कटिहार और गुवाहाटी से कोसी-मिथिला का सीधा रेलसंपर्क उपलब्ध हो जाएगा. फारबिसगंज होकर जोगबनी, कटिहार और गुवाहाटी से कोसी-मिथिलांचल से जुड़ जाएगा. झंझारपुर, निर्मली रूट की ट्रेन कोसी रेल महासेतु, सरायगढ़ और राघोपुर होकर फारबिसगंज पहुंच जाएगी. दरभंगा एवं सहरसा क्षेत्र के लोगों को गुवाहाटी के लिए वैकल्पिक रेलमार्ग उपलब्ध हो जाएगा. इन्हे भी जरूर पढ़ें

Shimla, Mandi, Kangra, Chamba, बिहार, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, कानपुर, दरभंगा, समस्तीपुर, नालंदा, पटना, मुजफ्फरपुर, जहानाबाद, पटना, नालंदा, अररिया, अरवल, औरंगाबाद, कटिहार, किशनगंज, कैमूर, खगड़िया, गया, गोपालगंज, जमुई, जहानाबाद, नवादा, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, बक्सर, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, भोजपुर, मधुबनी, मधेपुरा, मुंगेर, रोहतास, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, शेखपुरा, समस्तीपुर, सहरसा, सारण सीतामढ़ी, सीवान, सुपौल, #बिहार, #मुजफ्फरपुर, #पूर्वी चंपारण, #कानपुर, #दरभंगा, #समस्तीपुर, #नालंदा, #पटना, #मुजफ्फरपुर, #जहानाबाद, #पटना, #नालंदा, #अररिया, #अरवल, #औरंगाबाद, #कटिहार, #किशनगंज, #कैमूर, #खगड़िया, #गया, #गोपालगंज, #जमुई, #जहानाबाद, #नवादा, #पश्चिम चंपारण, #पूर्णिया, #पूर्वी चंपारण, #बक्सर, #बांका, #बेगूसराय, #भागलपुर, #भोजपुर, #मधुबनी, #मधेपुरा, #मुंगेर, #रोहतास, #लखीसराय, #वैशाली, #शिवहर, #शेखपुरा, #समस्तीपुर, #सहरसा, #सारण #सीतामढ़ी, #सीवान, #सुपौल,

Post a Comment

0 Comments